रायगढ़

नलवा स्टील एवं पावर लिमिटेड तराईमाल द्वारा संस्थापक दिवस मनाया गया।

नलवा द्वारा जिंदल उद्योग समूह के संस्थापक, प्रखर राजनीतिक, एवं समाज सेवक श्री ओम प्रकाश जिंदल जी “बाबू जी” के जन्म दिवस 7 अगस्त को फाउंडर्स डे (संस्थापक दिवस) के रुप में मनाया जाता है इस अवसर पर नलवा स्टील एंड पावर लिमिटेड के डायरेक्टर एवं प्लांट हेड श्री एसएस राठी जी द्वारा श्री बाबू जी के चित्र पर माल्यार्पण किया गया जिसमें नलवा के अधिकारीगण, कर्मचारी एवं उनके परिवार के सदस्य एवं ओपी जिंदल स्कूल तराईमाल के शिक्षक शिक्षिका एवं छात्र छात्रा भी उपस्थित थे


श्री ओपी जिंदल जी “बाबू जी” के जन्मदिवस पर डायरेक्टर एवं प्लांट हेड श्री एसएस राठी जी ने वहां उपस्थित कर्मचारियों और अधिकारियों को उनकी प्रेरणादायक जीवनी के बारे में बताते हुए संबोधित किया । अपने संबोधन में  श्री राठी जी ने कहा कि बाबूजी को एक कर्मवीर एवं  मैन ऑफ स्टील  के नाम से आज पूरा भारत जानता है। जिंदल उद्योग समूह के संस्थापक ओम प्रकाश जिंदल जी “बाबू जी” का जन्म 7 अगस्त 1930 में हरियाणा राज्य के नलवा गांव (हिसार) में एक किसान परिवार में हुआ। उन्हें बचपन से ही मशीनों में रुचि थी। बाबू जी ने अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति मेहनत और दूरदर्शी सोच से एक छोटे उद्योग से एक विशाल जिंदल समूह की स्थापना तक अपना सफर तय किया। बाबूजी ने सन 1959 में हिसार में एक छोटी सी यूनिट के साथ अपनी औद्योगिक यात्रा आगे बढ़ाई । सन 1965 में उन्होंने हिसार में जिंदल इंडिया नामक पाइप फैक्ट्री की स्थापना की बाद में उन्होंने 1970 में जिंदल स्ट्रिप्स नामक कंपनी खोली और राष्ट्र निर्माण के क्षेत्र में मजबूती से अपने कदम आगे बढ़ाए। श्री ओ पी जिंदल जी ऐसे ही एक महान स्वप्नदर्शी थे जिन्होंने इस्पात उत्पादन में आत्मनिर्भरता के माध्यम से आधुनिक और मजबूत भारत का सपना देखा । उनके दृढ़ विश्वास और सकारात्मक सोच ने उनके सपनों को हकीकत में बदला सन 1991 में बाबूजी सक्रिय राजनीति में आए और हिसार से विधायक निर्वाचित हुए 1996 में वे कुरुक्षेत्र लोकसभा से सांसद चुने गए उनकी सोच थी कि दलित पिछड़े एवं आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के उत्थान से देश का सामाजिक विकास संभव है उनका स्पष्ट मानना था कि कमजोर लोगों के हाथ मजबूत होंगे तभी हमारा देश भी मजबूत होगा। बाबूजी की सोच थी कि समाज के नीचे तबकों के विकास के लिए उनके स्वास्थ्य शिक्षा पर समुचित सहयोग नितांत आवश्यक है तभी वे देश के मुख्य धारा से जुड़ कर देश के विकास में सहयोग कर सकेंगे। उनके इन्हीं सोच ने उन्हें एक उत्कृष्ट समाज सेवक के रूप में कार्य करने के लिए सदैव प्रेरित किया।


बाबू जी  हम सभी के लिए प्रेरणा स्रोत रहे हैं उन्होंने अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति कड़ी मेहनत, एवं लगन के बल पर शिखर तक की यात्रा को तय करने में आई विभिन्न कठिनाइयों एवं अवरोधों का सामना करते हुए न केवल एक विशाल जिंदल समूह का गठन किया बल्कि उन्होंने अपने सामाजिक दायित्वों की पूर्ति के लिए अनेक कार्य किए। “बाबू जी” के इन्हीं सोच से प्रेरित होकर एवं उन्हीं के दिखाए हुए रास्ते पर चलकर नलवा स्टील एंड पावर लिमिटेड द्वारा निरंतर अपने सामाजिक सरोकारों का निर्वहन चिकित्सा, शिक्षा के क्षेत्र में किया जाता है।

लाइव भारत 36 न्यूज से देवचरण भगत की रिपोर्ट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button